हमारे लिए ऊर्जा के परम-स्रोत...

Sunday, 25 August 2013

आज के दौर में-1




कोई  काम  ना  आएगा, झूँठी  सबकी  प्रीत
भावनाओं का मूल्य नहीं, सब स्वार्थ के मीत              
                        ***
कहाँ दरिंदे  कर सकें, अब  मानवता की  होड़
बलात्कार, हत्याओं का, साम्राज्य है चारों ओर                       
                        ***
अब  रिश्तों  में  टूट रहे,  देखो  कैसे  विश्वाश
ना  जाने  कैसी  हो  गई, ये  हवस  की  प्यास            

                        ***

3 comments:

  1. जमाना ही उल्ट गया है, बहुत ही दुखद घटनाऎं घट रही है.

    रामराम.

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    साझा करने के लिए धन्यवाद।

    ReplyDelete

आपकी प्रतिक्रिया हमारा उत्साहवर्धन और मार्गदर्शन करेगी...