हमारे लिए ऊर्जा के परम-स्रोत...

Friday, 8 March 2013



जीवन एक पहेली


                            कहाँ समझे
                            जीवन का रहस्य
                            हम ता-उम्र

                                       ***

                            कहाँ सुलझी
                            जीवन की पहेली
                            यहाँ किसी से

                                       ***

                           ये जग मिथ्या
                           फिर क्यों आते हम
                           यूँ बार-बार

                                      ***

8 comments:

  1. तीनों हाइकु में जीवन के साक्षी भाव. बहुत सुन्दर. शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार एवं शुभकामनाएँ!!

      Delete
  2. सुंदर हाइकू , शिवरात्रि की शुभकामनायें

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार एवं आपको भी शुभकामनाएँ!!

      Delete
  3. सुंदर अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete

  4. सादर जन सधारण सुचना आपके सहयोग की जरुरत
    साहित्य के नाम की लड़ाई (क्या आप हमारे साथ हैं )साहित्य के नाम की लड़ाई (क्या आप हमारे साथ हैं )

    ReplyDelete

आपकी प्रतिक्रिया हमारा उत्साहवर्धन और मार्गदर्शन करेगी...