हमारे लिए ऊर्जा के परम-स्रोत...

Sunday, 3 March 2013



           जाग उठा विश्वाश


                                      तुम्हारी आँखें
                                    क्यों दिल में जलातीं
                                    आशा के दीप
                                      
                                                                             ****
                                             
                                    जल उठे दीप
                                    जागी एक किरण
                                    जाग उठा विश्वाश

                                            ****

                                    छू ले आकाश
                                    मेरे मन के पाखी
                                    देते विश्वास

                                                                               ****

10 comments:

  1. सुंदर अतिसुन्दर अच्छी लगी, बधाई

    ReplyDelete
    Replies
    1. आभार सुनील जी!

      Delete
  2. बहुत सुन्दर हाइकू.

    ReplyDelete
  3. Replies
    1. धन्यवाद...परन्तु ये क्षणिकाएँ नहीं हाइकु हैं मुकेशजी!

      Delete
  4. सुंदर ज्योति से उजले हाईकु !
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
    Replies
    1. ज्योतिपूर्ण शब्दों के लिए आभार!

      Delete
  5. sarika ji aapke blog par aakar sukhad anubhuti hui , haiku bahut sundar hai , kavye ki dhaara ka aapka yah roop hamen dekhne ko mila , shubhkamnaye .

    ReplyDelete
    Replies
    1. आपके स्नेहमयी शब्दों के लिए हार्दिक आभार! ऐसे ही कभी-कभी पधारकर मार्गदर्शन कराती रहें!
      सादर/सप्रेम
      सारिका मुकेश

      Delete

आपकी प्रतिक्रिया हमारा उत्साहवर्धन और मार्गदर्शन करेगी...