हमारे लिए ऊर्जा के परम-स्रोत...

Tuesday, 14 January 2014

आज के दौर में





कैसा विचित्र  संसार  ये  कैसी रीति विचित्र
पैसा  ही अब माता-पिता पैसा  संबंधी मित्र
                        ****
विपदा दूजे की हमें अब तनिक न करे व्याकुल
खुद की एक  खरोंच से  हम हो  जाते  आकुल
                        ****
मतलब  अपना साधकर  खुद  में हो गए लीन
अब  तो  वो  हमको  लगें बंदर  गाँधी के तीन

                        ****

2 comments:

आपकी प्रतिक्रिया हमारा उत्साहवर्धन और मार्गदर्शन करेगी...