हमारे लिए ऊर्जा के परम-स्रोत...

Monday, 15 July 2013

सुप्रभात


नया   सवेरा  नयी  उमंगे  नया  जोश  भर  जाए,
सूरज अपनी स्वर्णिम आभा तुम पर खूब लुटाए!
कोयलिया  भी  तुमको  अपने  मीठे  गीत सुनाए,
जो  भी  होवे कामना  तुम्हारी  वो  पूरी  हो  जाए!

                   सुप्रभात! आपका दिवस मंगलमय हो!!
                                         ******

5 comments:

  1. आपकी यह रचना कल मंगलवार (16-07-2013) को ब्लॉग प्रसारण : नारी विशेष पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    ReplyDelete
  2. ब्लॉग प्रसारण : नारी विशेष में हमारी इस पोस्ट को स्थान देने हेतु आपका हार्दिक आभार!
    सादर/सप्रेम,
    डॉ. सारिका मुकेश

    ReplyDelete
  3. हमारी इस पोस्ट को स्नेहात्म्क प्रतिक्रिया और साथ ही "मंगलवारीय चर्चा --1308--- भुंजे तीतर सा मेरा मन में" पर स्थान देने हेतु आपका हार्दिक आभार!
    सादर/सप्रेम,
    डॉ. सारिका मुकेश

    ReplyDelete

आपकी प्रतिक्रिया हमारा उत्साहवर्धन और मार्गदर्शन करेगी...