हमारे लिए ऊर्जा के परम-स्रोत...

Tuesday, 17 April 2012

5 हाइकु


उम्र बढ़ती
घटती प्रतिपल
यह ज़िंदगी
        * 
कैसा विकास
आदमी को आदमी
काटता आज
       *
जवान बेटी
अँखियों में सपने
बेबस पिता
      *
मैं और तुम
यूँ रहे पास जैसे
पृथ्वी-आकाश
       *
खिले पलाश
कटे हुए पेड़-सा
मन उदास
     ***

5 comments:

  1. सभी हाइकु प्रभावशाली

    ReplyDelete
    Replies
    1. हार्दिक धन्यवाद!
      सादर/सप्रेम
      सारिका मुकेश

      Delete
  2. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 19 -04-2012 को यहाँ भी है

    .... आज की नयी पुरानी हलचल में ....ये पगडंडियों का ज़माना है .

    ReplyDelete
  3. बहुत ही बढ़िया।

    सादर
    ----
    ‘जो मेरा मन कहे’ पर आपका स्वागत है

    ReplyDelete
  4. वाह,
    बड़े सार्थक हाइकू !

    ReplyDelete

आपकी प्रतिक्रिया हमारा उत्साहवर्धन और मार्गदर्शन करेगी...